Menu

आरोप-मुक्त करने के खिलाफ दायर याचिका पर दिल्ली कोर्ट ने अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया समेत सभी को जारी किया नोटिस



दिल्ली की अदालत ने 2018 में मुख्य नियंत्रक के मामले में मंत्रिपरिषद को लागू किया।

इन्दिराद
फोटो

विशेष न्यायाधीश जगल गोगोल ने, सिसोदिया और नाव अन्य को पूर्व नियंत्रक नियंत्रक के संबंध में जारी पाठ। इन सभी को 23 नवंबर तक उत्तर देने वाले हैं। अंशु प्रकाश ने घोषणा की।

कोर्ट के सदस्य और बैठक में बैठने वाले व्यक्ति (पार्टी) के विधायक, मनीष ऋषि, नितिन प्लसी, वैवाहिक कुमार, अजुन, संजीव झा, ऋतुराज, चिकित्सक, मदन लाल और दिनेश मोहनिया को नोटिंग जारी किया गया। इस मामले में अब 23 नवंबर को प्रभार होगा।

अंशु प्रकाश की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता सिद्धार्थ लूथरा और अधिवक्ता कुमार वैभव ने न्यायाधीश से कहा कि मजिस्ट्रेट अदालत ने अपने अगस्त के आदेश में केजरीवाल और अन्य को आरोप-मुक्त करने में गलती की है।

भारतीय दंड संहिता की धारा 506 (आपराधिक सुरक्षा) अतिरिक्त कार्रवाई करने का भी अनुरोध करता है।

अतिरिक्त बैटरी चार्ज करने के लिए बेहतर स्थिति में बदलने के लिए उपयुक्त स्थिति में बदलने के लिए उपयुक्त स्थिति में बदलने के लिए, उप-स्वास्थ्य सुरक्षा में बदलाव के लिए उपयुक्त स्थिति में आने वाली स्थिति में बदलने के लिए बेहतर होगा। आप के दो विधायक, अमानतुल्ला खान और प्रकाश जर्वाल के कार्यालय आपके कार्य करने के लिए तैयार किए गए थे। उच्च न्यायालय से उच्च गुणवत्ता वाला मिल रहा है।

बैठक 19 फरवरी, 2018 को बैठक के बाद बैठक हुई। घटना के बाद से दिल्ली सरकार और इसी तरह की गतिरोध था।

गौरतलब है कि, बीते दिनों सीएम केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया समेत 11 विधायकों को बरी कर दिया गया था। ️ (इनपुट: भाषा के साथ)

Happy Diwali 2021: Wishes, Images, Status, Photos, Quotes, Messages

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *